फ्री फेसबुक अपडेट्स के लिए अभी लाइक करें..

डॉ के bill कर देगा गुड़ इन उपायों से nill

1- भोजन करने के बाद एक डेली  गुड़ का सेवन करने से पाचन सुधरता है और पेट में बनने वाली गैस की समस्या में भी बहुत आराम होता है ।

2 – पुराने गुड़ में पिसी हुयी सूखी अदरक मिलाकर मुख में रखकर चूसने से हिचकी लगने की परेशानी में तीव्र आराम होता है ।

3- कीड़े-मकोड़े के काटने से होने वाली जलन और सूजन से राहत पाने के लिये गुड़ को बहुत थोड़े से पानी के साथ पीसकर लेप करने से एकदम से ही आराम अनुभव हो जाता है

4 – गाय के दूध में गुड़ मिलाकर नित्य सेवन करने से मूत्र मार्ग साफ रहता है और मूत्र खुलकर आराम से आता है ।

5 – यदि काँच अथवा काँटा चुभ जाये तो गुड़ को हल्का गर्म करके सूती कपड़े के साथ बाँध देने से बहुत लाभ होता है और काँच/काँटा आसानी से निकल आता है ।

6- सर्दियों के मौसम में गुड़ और काले तिल के लड्डू बनाकर नित्य सेवन करने से सर्दी जुकाम, खाँसी, दमा आदि श्वासतंत्र के रोग नही सताते हैं ।

7 – यदि खून में एलर्जी का असर हो गया हो तो गुड़ मिला दूध रोज एक या दो बार पीने से खून के विकार दूर होते हैं ।

8- 10 ग्राम गुड़ का सेवन 5 ग्राम घी के साथ मिलाकर, सुबह सूरज उगने से पहले और शाम को सूरज डूबने से पहले रोज करने से माइग्रेन की समस्या में बहुत ही उत्तम लाभ होता है । ।

9- गुड़ शरीर को विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने में मदद करता है। सर्दियों में, यह शरीर के तापमान को विनियमित करने में मदद करता है।

10- यह खांसी, दमा, अपच, माइग्रेन, थकान व इसी तरह की अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं से निपटने में मदद करता है।

11-यह संकट के दौरान तुरन्त ऊर्जा देता है।

12- लड़कियों के मासिक धर्म को नियमित करने यह मददगार होता है।

13- गुड़ गले और फेफड़ों के संक्रमण के इलाज में फायदेमंद होता है ।

14- यह व्यक्ति के तंत्रिका तंत्र को मजबूत करने में सहायक होता है।

15- गुड़ शरीर में जल के अवधारण को कम करके शरीर के वजन को नियंत्रित करता है। उपरोक्त गुणों के अतिरिक्त गुड़ उच्च स्तरीय वायु प्रदूषण में रहने वाले लोगों को इससेलड़ने में मदद करता है, संक्षेप में कहें, तो गुड़ एक खाद्य पदार्थ कम, औषधि ज्यादा है।

फ्री फेसबुक अपडेट्स के लिए अभी लाइक करें..