फ्री फेसबुक अपडेट्स के लिए अभी लाइक करें..

गंजेपन से बचने के लिए वरदान साबित होगी ये पोस्ट, एक शेयर बालों के नाम

गंजापन आज के युग में इतना ज्यादा क्यों हो रहा है?

  • बाल सिर्फ चेहरे की सुन्दरता ही नहीं बढ़ाते बल्कि ये गर्मी और सर्दी से सिर की रक्षा भी करते हैं। बाल सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणों को शोषित करके विटामिन `ए` और `डी` को संरक्षित भी करते हैं तथा इसके साथ-ही साथ उष्णता, शीतलता, और तेज हवा से हमारे सिर की सुरक्षा भी करते हैं। जब यह बाल किसी कारण से झड़ने लगते हैं तो व्यक्ति की सुन्दरता बेकार लगने लगती हैं। इस रोग के कारण व्यक्ति के सिर के बाल झड़ने लगते हैं। जब रोगी व्यक्ति के बाल बहुत अधिक झड़ने लगते हैं तो वह गंजा सा दिखने लगता है।
  • आज के समय में बालों का झड़ना आम समस्या हो गई है। जिसके कारण आप काफी चिंतित भी रहते है। कि इस समस्या से निजात कैसे पाया जाए। आज के समय में ये समस्या केवल महिलाओं को ही नहीं पुरुषों में भी तेजी से देखी जा रही है। जिसके कारण पुरुष इसके पीछे का कारण और ऐसे उपाय ढूढते है जिससे कि इस समस्या से निजात पा सकते है। कई लोग तो हेयर ट्रांसप्लांट करवाते है। जिससे उनके बाल दुबारा आ जाते है। इसमें अधिक खर्च भी होता है। जो कि आम आदमी से बहुत दूर है। आखिर पुरुषों के बाल क्यों गिरते है। इससे कैसे करें बचाव जानिए।

➡ बाल झड़ने के कारण जो गंजापन की दस्तक 

  1. कई लोगो के बाल तनाव के कारण झड़ने लगते है। इसलिए थोड़ा कम तनाव लेने की कोशिश करें। जिससे आपको आराम मिलें।
  2. डॉक्टरों की माने तो ज्यादार लोगों को बेरल फॉल का कारण आनुवांशिक होता है। यह एक निश्चित पैटर्न में बाल झड़ते है। माना जाता है कि यह आनुवांशिक कारण उनके अपने पापा या फिर दादा से मिलता है।
  3. कई बार तो ऐसा होता है कि अगर आपको बुखार या फिर और कोई बीमारी है तो आपके बाल झड़ जाते है। लेकिन यह बाल बाद में खुद ही निकल आते है।
  4. कई बार बालों की झड़ने का समस्या हारमोन के परिवर्तन के कारण होती है। जिन लोगों पर अपनी पीढ़ी की देन नहीं हती है। उन लोगों के बाल टेस्टोस्टेरॉन की कमी या फिर अधिकता के कारण होता है।
  5. कई बार तो विटामिन ए की अधिकता के कारण आपके बाल झड़ जाते है। इसलिए इस बात का जरुर ध्यान रखें कि विटामिन ए का सेवन थोड़ा कंट्रोल में करें।
  6. यह रोग व्यक्ति को अधिकतर तब होता है जब व्यक्ति के शरीर में विटामिन `बी´ एवं प्राकृतिक लवणों, लौह तत्व तथा आयोडीन की कमी हो जाती है।
  7. कई प्रकार के लम्बे रोग जैसे- टायफाइड, उपदंश, जुकाम, नजला, साइनस तथा रक्तहीनता (खून की कमी) आदि रोग होने के कारण भी व्यक्ति के बाल झड़ने लगते हैं।
  8. किसी प्रकार के आघात या बहुत अधिक चिंता करने के कारण भी यह रोग व्यक्ति को हो जाता है।
  9. सिर की ठीक तरीके से सफाई न करने के कारण भी बाल झड़ने लगते हैं।
  10. शरीर में हार्मोन्स के असंतुलन के कारण भी व्यक्ति के बाल झड़ने लगते हैं।
  11. सिर के रक्त संचारण में कमी आ जाने के कारण भी बाल झड़ने का रोग हो सकता है।
  12. शैम्पू तथा साबुन आदि का अधिक मात्रा में उपयोग करने के कारण भी बाल झड़ने लगते हैं।
  13. हेयर ड्रायर्स का अधिक प्रयोग करने के कारण भी बाल झड़ने लगते हैं।
  14. अधिक मात्रा में दवाइयों का प्रयोग करने के कारण भी बाल झड़ने लगते हैं।
  15. कब्ज रहना, नींद न आना तथा अधिक दिमागी कार्य करने के कारण भी बाल झड़ने का रोग व्यक्ति को हो सकता है।
  16. बालों को सही तरीके से पोषण न मिल पाने के कारण बाल कमजोर हो जाते हैं और झड़ने लगते हैं।
  17. वात और पित्त कुपित जब होकर रोमछिद्रों में पहुंचते हैं तो बाल झड़ने लगते हैं।
  18. अधिक मिर्च-मसाले तथा तली हुई चीजों का सेवन करने से बाल झड़ने लगते हैं।

➡ गिरते बालों से निजात पाने के प्राकृतिक और कारगर टेस्टेड उपाय 

बालों को झड़ने से बचाने के लिए हम की ऐसे उपाय अपनाते है। जिससे कि इस समस्या से निजात पा सकते है। हम आपको कुछ ऐसे उपायों के बारें में बता रहे है जिनका इस्तेमाल कर आपको फिर से घने और सुंदर बाल पा सकते है। जानिए इन उपायों के बारें में।

  1. बालों के झड़ने के रोग का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार करने से पहले इस रोग के होने के कारणों को दूर करना चाहिए और फिर इसका उपचार प्राकृतिक चिकित्सा से करना चाहिए।
  2. इस रोग से बचने के लिए भोजन संतुलित तथा पौष्टिक करना चाहिए।
  3. बाल झड़ने के रोग को ठीक करने के लिए सप्ताह में एक बार फलों का भोजन करना चाहिए।
  4. बालों को झड़ने से रोकने के लिए पत्ता गोभी, अनन्नास तथा आंवला का सेवन अधिक मात्रा में करना चाहिए।
  5. बाल झड़ने से रोकने के लिए व्यक्ति को अपने भोजन में सब्जियां, सलाद, मौसम के अनुसार फल और अंकुरित अन्न का अधिक मात्रा में उपयोग करना चाहिए।
  6. भोजन में आटे की रोटी, चावल, फल व हरी सब्जियों का अधिक प्रयोग करना चाहिए।
  7. इस रोग से पीड़ित रोगी को पालक व गाजर के रस का अधिक सेवन करना चाहिए। इससे रोगी के बाल झड़ना बहुत जल्द ही रुक जाते हैं।
  8. रोगी व्यक्ति को अपने सिर के पसीने को सूखने नहीं देना चाहिए।
  9. बालों को झड़ने से रोकने के लिए आंवले का अपने भोजन में अधिक उपयोग करना चाहिए तथा आंवले के मुरब्बा का सेवन करना भी बहुत लाभदायक होता है।
  10. इस रोग से पीड़ित रोगी को अपने सिर को दही से धोना चाहिए और फिर नारियल के दूध से खोपड़ी की मालिश करनी चाहिए। इसके बाद सिर को धोना चाहिए और कुछ समय बाद बथुए के पानी से सिर को धोना चाहिए। ऐसा करने से रोगी के बाल झड़ना रुक जाते हैं।

DR NUSKHE NEEM OIL

फ्रिज़ी बालों का उपचार : बालों में निरंतर हानिकारक रसायनों और सौन्दर्य उत्पादों का प्रयोग करने पर आपके सिर पर फ्रिज़ी और रूखे बाल पैदा हो जाते हैं। आप अब इस स्थिति का नीम के तेल से आसानी से उपचार कर सकते हैं। आप इस तेल को या तो सीधे अपने सिर पर लगा सकते हैं, या फिर इसकी कुछ बूंदों का मिश्रण अपने शैम्पू (shampoo) में भी कर सकते हैं। अगर आप नीम के तेल को शैम्पू के साथ मिश्रित कर रहे हैं तो ऐसा निरंतर अपने रोजाना प्रयोग में लाये जा रहे शैम्पू की मात्रा को निकालकर करें। इस तरह इस शैम्पू से बालों को धोने पर आप पाएँगे कि एक बालों के सूख जाने पर वे किस तरह चमकदार बन जाते हैं।
दोमुंहे बाल हटाएं : सीरम, फ्लैट आयरन या कर्लिंग आयरन (serums, flat-iron or curling iron) जैसे स्टाइलिंग (styling) उत्पादों के ज़्यादा प्रयोग से भी बाल रूखे और दोमुंहे हो सकते हैं। आप अब नीम के बीज के अंश निकालकर इन्हें अपने बालों की जड़ में लगा सकते हैं। आप अब नीम के तेल की मदद से बालों में गहरी मोइस्चराइज़िंग (moisturizing) भी प्राप्त कर सकते हैं। यह रूखे और क्षतिग्रस्त बालों की भी मरम्मत करता है तथा आपके बालों को मुलायम और संभालने लायक बनाता है।
जुओं का उपचार : जुएँ काफी छोटे कीड़े जैसे जीव होते हैं, जो आपके सिर की त्वचा पर पैदा होकर आपका खून पीते हैं। इनके सिर की त्वचा पर अतिरिक्त रूप से काटने पर घाव हो जाता है, जिससे एक व्यक्ति को काफी दर्द होता है। अतः अपने बालों और सिर को जुओं के प्रभाव से मुक्त रखना ही बेहतर विकल्प होता है। आप नीम के तेल का अपने बालों की जड़ों में प्रयोग करके जुओं को दूर रख सकते हैं। क्योंकि इस तेल की कोई एलर्जिक (allergic) प्रतिक्रिया नहीं होती, अतः आपकी सिर की त्वचा का प्रकार चाहे जो भी हो, आप इसे अपने सिर में लगा सकते हैं।
गंजापन दूर करता है नीम ऑल : अगर नीम आयल रात को सोतें वक़्त बालो में लगाया जाएं तो इस से बालो का गिरना कम हो जाता है अथवा गंजापन दूर होता है साथ हे इस से बाल भी काले और हेल्थी हो जातें हैं.

आप इस तेल को घर पर मंगवा सकतें हैं. फ्री डिलीवरी के लियें आर्डर करेंwww.ayurvedastreet.com

Health टिप्स ‪#‎फेसबुक‬ पर पाने के लिए नीचे दिए हुए Group 👏🙏👏को ‪#‎Join‬👉 करें www.facebook.com/groups/ayurvedicnuskhe

फ्री फेसबुक अपडेट्स के लिए अभी लाइक करें..